Monday, 19 March 2018

बोधकथा एक प्रेरक कथा - हिन्दी कहानी - दो-तीन फूलन दर्जनों माली ... परमश्रद्धेय स्वर्गीय श्री मनोज दम्मुर १४ जी – अकबर - बीरबल कौन था ? मोहित हरामी - पता नहीं . परमश्रद्धेय स्वर्गीय श्री मनोज दम्मुर १४ जी - पढ़ाई की तरफ ध्यान दो । मोहित हरामी - परमश्रद्धेय श्री रोहित बघेल उर्फ श्रीमान कल्लू १४ तड़ीपार पिता बर्खास्त उपयंत्री जी और परमश्रद्धेय श्री रोहित पटेल उर्फ श्रीमान गोरा जी १४ बाप लोकतंत्र के पांचवे स्तम्भ, बाल सुधार कैदखाना, बस्तर में ४ साल से "302 क़ैद-ए-बामुशक्कत" कौन-कौन परमश्रद्धेय लोग-बाग हैं ? परमश्रद्धेय स्वर्गीय श्री मनोज दम्मुर १४ जी - पता नहीं . मोहित हरामी - अपनी इकलौती बहू सोनल सेक्स फ्री की तरफ ध्यान 2 . एक्स विडियो देखती है, छेदे से विशिष्ट प्रकार की बदबू आती है, घंटों फोन पर चिपकी रहती है, आपकी कॉल अवॉइड करने लगी है और देर रात भी उनका फोन बिजी रहता है, भाग जाएगी ??



https://youtu.be/Kt87F7O0xZo


No comments:

Post a Comment